Statue of Equality in Hindi : देखे कहाँ है स्टेचू ऑफ़ इक्वलिटी देखे पूरी खबर

Statue of Equality in Hindi : जैसा की आप जानते होंगे की श्री रामानुजाचार्य हमारे हिन्दू धर्मं के बहुत बड़े संत और धर्मगुरु है आज उनकी तेलंगाना में मूर्ति के बारे में बताने वाले है जिसका जल्द ही उद्घाटन होने वाला है |यह प्रतिमा 216 की उंचाई पर है | जाने पूरी डिटेल |

कौन है संत रामानुजाचार्य (Statue of Equality)

आपको बता दे रामानुज, जिसे रामानुजाचार्य या इलैया पेरुमल भी कहा जाता है (तमिल: अजेय पेरुमल [भगवान]), (जन्म सी। 1017, श्रीपेरंबुदुर, भारत- मृत्यु 1137, श्रीरंगम), दक्षिण भारतीय ब्राह्मण धर्मशास्त्री और दार्शनिक, भक्तिपूर्ण हिंदू धर्म के एकमात्र सबसे प्रभावशाली विचारक | एक लंबी तीर्थयात्रा के बाद, रामानुज श्रीरंगम में बस गए, जहाँ उन्होंने मंदिर पूजा का आयोजन किया और भगवान विष्णु और उनकी पत्नी श्री (लक्ष्मी) के प्रति समर्पण के अपने सिद्धांत का प्रसार करने के लिए केंद्रों की स्थापना की।
उन्होंने तीन प्रमुख टिप्पणियों में भक्ति (भक्ति पूजा) के अभ्यास के लिए एक बौद्धिक आधार प्रदान किया: वेदार्थ-संग्रह (वेदों पर, हिंदू धर्म के शुरुआती ग्रंथ), श्री-भाष्य (ब्रह्म-सूत्रों पर), और भगवद्गीता -भाष्य (भगवद्गीता पर)

Statue of Equality in Hindi : देखे कहाँ है स्टेचू ऑफ़ इक्वलिटी देखे पूरी खबर

Prime Minister to unveil 216-ft Statue of Equality in Hyderabad - Hotelier  India

आपको बता दे  11वीं सदी के सबसे बड़े समाज सुधारक और वैष्णव संत रामानुजाचार्य की 216 फीट ऊंची प्रतिमा पर काम तेजी से चल रहा है, जिसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 फरवरी को मुचिन्तल में त्रिदंडी चिन्ना जीर स्वामी के 40 एकड़ के आश्रम में अनावरण करेंगे।

समानता की मूर्ति‘, जैसा कि कहा जाता है, रामानुजाचार्य की 1,000वीं जयंती के अवसर पर स्थापित की जानी थी लेकिन अब ये साल 2022 में 5 फरवरी को इसका अनावरण होने वाला है } यह चीन में एरोस्पन कॉरपोरेशन द्वारा सोने, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता के संयोजन पंचलोहा से बनाया गया था और भारत भेज दिया गया था। यह संत के बैठने की स्थिति में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्थान था।

Ashok Ke Ped Lagane Ke Fayde :अशोक के पेड़ का महत्व

दिव्या मंदिर संग्रचना (Statue of Equality)

स्मारक तिरुमाला, श्रीरंगम, कांची, अहोभिलम, भद्रीनाथ, मुक्तिनाथ, अयोध्या, बृंदावन, कुंभकोणम और अन्य जैसे श्री वैष्णववाद परंपरा (मॉडल मंदिर) के 108 ‘दिव्य देशम‘ से घिरा होगा। देवताओं और संरचनाओं की मूर्तियों का निर्माण मौजूदा मंदिरों में आकार में किया गया था। मूर्तियों को भी रंगा गया।

आपको बता दे आधार भवन, जो 16.5 मीटर लंबा था, में एक ध्यान कक्ष था, जहां 120 किलो सोने से बनी रामानुजाचार्य की 54 इंच की मूर्ति, जो उनके वर्षों का प्रतिनिधित्व करती है, का उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा 13 फरवरी को पहली पूजा करके किया जाएगा। आंतरिक गर्भगृह देवता लोगों द्वारा दैनिक पूजा के लिए थे।

कहाँ है मंदिर

श्रीराम नगर‘ जहां आश्रम स्थित था, वहां सौंदर्यीकरण का काम जोरों पर है।प्रतिमा के सामने 45 फुट ऊंचे गतिशील पानी के फव्वारे को रंग-बिरंगे रंग से रंगा जा रहा था। फाउंटेन, लेजर शो, आधुनिक लाइटिंग और साउंड सिस्टम का निर्माण कार्य पूरा होने के करीब है।

आधार पर मुख्य मंदिर, दीवारों के आसपास की मूर्ति की ओर जाने वाली सीढ़ियों और चट्टान के खंभों को रंग दिया गया था। मूर्ति के चारों ओर एक बड़ा फव्वारा और चमकदार रोशनी को अंतिम रूप दिया गया।

अच्छी तरह से कालीन वाली आंतरिक सड़कें, राजसी फर्श और फूलों और औषधीय पौधों के साथ एक बगीचे ने इस माहौल की शोभा बढ़ा दी है।

तुलसी का पौधा कैसे लगाएं : क्या है इसे लगाने के चमत्कारी फायदे ?

Statue of Equality inauguration (स्टेचू ऑफ़ इक्वलिटी का उद्घाटन कब होगा)

2 फरवरी से 14 फरवरी तक चलने वाले 13 दिवसीय कार्यक्रम में प्रतिदिन पवित्र अग्नि का प्रदर्शन होगा। आग के लिए शेड और उसमें जाने के लिए गोबर के उपलों का निर्माण लगभग 500 श्रमिकों द्वारा किया गया था। बांस और ताड़ की शाखाओं से बने 144 शेड थे।

देश भर के लगभग 5,000 ऋत्विक और वैदिक पंडितों द्वारा सुबह और शाम के सत्रों में चारों कोनों में 1,035 गड्ढों में आग लगाई जाएगी। एक तरफ बेंगलुरु हाईवे से श्रीराम नगर तक सड़क चौड़ीकरण का काम और पेड्डा गोलकुंडा के पास संगीगुड़ा चौराहा नौ किमी से अधिक तेज गति से चला।

बेंगलुरु हाईवे से पेद्दा शाहपुर थांडा चौराहे, गोलूर और अमीरपेट तक आठ किलोमीटर से अधिक चौड़ी एक और सड़क लगभग पूरी हो गई है। सड़क के बीचोंबीच और किनारे पर एवेन्यू वृक्षारोपण किया गया। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव द्वारा आयोजित कार्यक्रम की सह-मेजबानी के रूप में बिजली उपयोगिताओं ने निर्बाध आपूर्ति की व्यवस्था की। मुचिन्तल में 33/11 केवी का सब-स्टेशन पहले ही स्थापित किया जा चुका है।

क्या है होगी व्यवस्था 

मिशन भगीरथ के अधिकारियों ने आश्रम में 15 लाख लीटर पेयजल की आपूर्ति की व्यवस्था की है। विशेष मशीनों से बने गोबर के लंबे रूप को पवित्र अग्नि में उपयोग के लिए धूप में बेक किया गया था। केक को बाद में प्लास्टिक की थैलियों में संरक्षित किया गया था।

प्रत्येक अग्निकुंड में अनुष्ठान के लिए चार किलो गाय के घी का उपयोग किया जाएगा। प्रत्येक शेड में नौ गड्ढे हैं। राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात से करीब दो लाख किलोग्राम शुद्ध गाय का घी खरीदा गया। शनिवार को मध्य प्रदेश (MP) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चिन्ना जीर स्वामी का आशीर्वाद लिया |

क्या है खासियत

साल 1137 में श्रीरंगम में रामानुज्चार्य ने 120 साल की आयु में त्याग दिया था | रामानुजचार्य का गर्भगृह 120 किलो सने से बना है | ऐसे में इस पृथ्वी पर 120 साल का जीवन देखना एक अद्भुत मिसाल है | इस प्रतिमा का उदघाटन राष्टपति रामनाथ कोविंद 13 फरवरी को करने वाले है |

Source Link

छठ पूजा क्यों की जाती है : क्या है छठ पूजा महत्व जाने इसके बारे में ?

Statue of Equality in Hindi : उम्मीद है आज आपको हमारा ये आर्टिकल स्टेचू ऑफ़ इक्वलिटी की बायोग्राफी पसंद आया होगा | इन्होने टीवी सीरियल के एक बड़े अभिनेता है | जिसकी वजह से आज इनके करोड़ो फैन्स है |आगे भी हम आपके लिए कुछ ऐसे आर्टिकल लायेंगे अगर आपको ये पसंद आया तो दोस्तों के साथ लिखे और शेयर करना न भूले |

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: